loader from loading.io

Bewafa Teri Deewangi

DHADKANE MERI SUN

Release Date: 10/15/2023

You, me and our feelings show art You, me and our feelings

DHADKANE MERI SUN

क्या खूब समा था  इश्क़ के महीने में - इश्क़ जवां था  मौसम के थे नजारे  आंखों के थे इशारे  बातों में कशिश थी इतनी  लहजे में तपिश थी इतनी  जिस्म था - आग थी  हर छुअन में एक धुआं था  हसीना थी कमसिन  दीवाना जवां था  इश्क़ के...

info_outline
Half Love-Incomplete Dream show art Half Love-Incomplete Dream

DHADKANE MERI SUN

Dive into the heart of romance this Valentine's Day with "Half Love-Incomplete Dream." A tale of love's complexities and unfulfilled dreams, poetically captured in Dr. Rajnish Kaushik's stirring words: "आधा प्रेम जड़ है अनंत पीड़ा की, जिसमें अधूरे ख्वाब पनपते हैं। चलो छोड़ो मोहब्बत की बातेँ, खुद से लड़ कर खुद ही में सिमटते हैं।" Experience the intertwining of love, sorrow, and self-discovery. Join...

info_outline
Stray Love show art Stray Love

DHADKANE MERI SUN

ये छेड़छाड़ , ये आवारगी , और ये दास्ताँ-ए-मोहब्बत उस रोज़ उस रात की तन्हाई की है दोस्तों,जब हम भी मूड में थे और वो भी........ ......मगर... with full dedication. 

info_outline
Those Moments show art Those Moments

DHADKANE MERI SUN

Embark on a Soulful Journey with 'Those Moments'! Listen now on Spotify, Amazon, and JioSaavn! Capturing the essence of unforgettable moments, this episode on #Dhadkane MeriSun podcast by Dr. Rajnish Kaushik is a must-listen! Join us for a heartfelt experience filled with soulful music, emotions, and cherished memories.

info_outline
Bewafa Teri Deewangi show art Bewafa Teri Deewangi

DHADKANE MERI SUN

उल्फत की बातेँ जन्मों के वादे वो रस्में वो कसमें और जन्नत सी रातें कितने जवां और कितने थे पक्के पत्थर की मानिंद तेरे इरादे फिर भी तूने जुल्म ये ढाया क्यूँ बेवफा मुझे इतना रुलाया मोहब्बत थी या फिर आवारगी थी कैसी वो तेरी दीवानगी थी...

info_outline
I just want to touch you show art I just want to touch you

DHADKANE MERI SUN

तुम जो धड़कती थी सीने में जिंदगी बनकर.....मेरे ज़िस्म मेरे शरीर में मेरी रूह बनकर.....मेरे दिल के हर हिस्से में दौड़ते रक्त प्रवाह की मानिंद..... कहीं तुम्हें कोई दर्द ना हो  मेरी वज़ह से तुम्हें कोई आघात ना हो...मेरे प्रेम की निरंतरता...

info_outline
THAT INNOCENT LOVE show art THAT INNOCENT LOVE

DHADKANE MERI SUN

अब लफ्जों में हैं उसके खामोशियां अब रही ना वो पहले सी नजदीकियां आती नहीं मुझको अब हिचकियाँ जाती नहीं मन से क्यूं सिसकियाँ याद आती हैं उसकी वो सरगोशियां कहता था उसको मैं "मासूम" तब उसकी मासूमियत ये क्या हो गया वो जो मुझसे मिला मेरी...

info_outline
Love with breath even after breath show art Love with breath even after breath

DHADKANE MERI SUN

अनुभवी लोग कहते हैं कि मोहब्बत की गांठ भले ही कच्ची डोर से क्यों ना बंधी हो मगर अनंत प्रेम की कड़ियों से जुड़ी होती है अनंत से अनंत तक आपके साथ खड़ी होती है कल भी आज भी.. ...... सांसों के साथ भी... सांसों के बाद भी

info_outline
Love is crazy show art Love is crazy

DHADKANE MERI SUN

जवानी जब से बहकी थी उसी का नाम लेती थी मोहब्बत प्यास है उसकी यही पैगाम देती थी  मैं मजनूं था मैं रांझा था वो लैला हीर जैसी थी  मेरी चाहत के  ज़ज्बो को मेरा ईमान कहती थी  मगर अब.... जो समझती थी इशारों को इशारों ही इशारों में ...

info_outline
Dhadkane meri sun show art Dhadkane meri sun

DHADKANE MERI SUN

मैं आज भी वहीं हूँ मेरी चाहते और मेरा इश्क़ भी वहीं ठहरा हुआ है उसी मोड़ उसी राह पर जहाँ जुदा हुए थे हम.....बस...मैं ही कुछ पत्थर सा हो चुका हूँ और पत्थरों से टकराता हूँ मंजिलों की तलाश में हर रोज हर लम्हा और टूट कर बिखर जाता हूँ हर रोज हर...

info_outline
 
More Episodes

उल्फत की बातेँ जन्मों के वादे

वो रस्में वो कसमें और जन्नत सी रातें

कितने जवां और कितने थे पक्के

पत्थर की मानिंद तेरे इरादे

फिर भी तूने जुल्म ये ढाया

क्यूँ बेवफा मुझे इतना रुलाया

मोहब्बत थी या फिर आवारगी थी

कैसी वो तेरी दीवानगी थी

कैसी वो तेरी दीवानगी थी........