loader from loading.io

The Night doesn't pass without you dear

DHADKANE MERI SUN

Release Date: 06/01/2024

TERA - MERA  HAI  PYAAR   AMAR show art TERA - MERA HAI PYAAR AMAR

DHADKANE MERI SUN

तू वो ग़ज़ल है मेरी  जिसमें तेरा होना तय है  तू वो नज्म है मेरी  जिसमें आज भी तेरी मौजूदगी तय है  इसलिये नहीं... कि...  तू मेरी दस्तरस में है  बल्कि इसलिये...कि... तू आज भी मेरी नस - नस में है  इसलिए हो चाहे ये कितना ही लंबा सफ़र  ना...

info_outline
Love Letters show art Love Letters

DHADKANE MERI SUN

कभी तेरे नैनों पे लिखा  तो कभी नैनों के मोतियों पे लिखा  कभी तेरे मासूम चेहरे पे लिखा  तो कभी चेहरे की मासूमियत वाली बातों पे लिखा  कभी इश्क़- ए -मिजाजी पे लिखा तेरी  तो कभी इश्क़ - ए-दगाबाजी पे लिखा  कभी ग़ज़ल लिखी कभी गीत...

info_outline
EK  TARFA  MOHABBAT show art EK TARFA MOHABBAT

DHADKANE MERI SUN

मेरी सांसों में रहती है  मगर आँखों से बहती है  मैं तुझ बिन जी नहीं सकता  धड़कने मेरी कहती हैं  जो मिल जायेंगे मैं और तुम  ज़मी जन्नत बनाऊंगा  अमीरी हो या फकीरी हो  सभी नखरे उठाऊंगा  ज़माने भर की हर रौनक  तेरे कदमो में...

info_outline
The  Night doesn't pass without you dear show art The Night doesn't pass without you dear

DHADKANE MERI SUN

उसने अपने खत में लिखा.... ये कैसा प्यार है तेरा... बिस्तर में सलवटें ही नहीं पड़ती, सलवटें पड़े भी तो कैसे... क्योंकि...तू वहाँ ... मैं यहाँ.... ये कैसा खुदा है मेरा .... धरती प्यास से तड़प रही है मेघ हैं कि बरसने का नाम ही नहीं लेते मेघ बरसे भी तो...

info_outline
You, me and our feelings show art You, me and our feelings

DHADKANE MERI SUN

क्या खूब समा था  इश्क़ के महीने में - इश्क़ जवां था  मौसम के थे नजारे  आंखों के थे इशारे  बातों में कशिश थी इतनी  लहजे में तपिश थी इतनी  जिस्म था - आग थी  हर छुअन में एक धुआं था  हसीना थी कमसिन  दीवाना जवां था  इश्क़ के...

info_outline
Half Love-Incomplete Dream show art Half Love-Incomplete Dream

DHADKANE MERI SUN

Dive into the heart of romance this Valentine's Day with "Half Love-Incomplete Dream." A tale of love's complexities and unfulfilled dreams, poetically captured in Dr. Rajnish Kaushik's stirring words: "आधा प्रेम जड़ है अनंत पीड़ा की, जिसमें अधूरे ख्वाब पनपते हैं। चलो छोड़ो मोहब्बत की बातेँ, खुद से लड़ कर खुद ही में सिमटते हैं।" Experience the intertwining of love, sorrow, and self-discovery. Join...

info_outline
Stray Love show art Stray Love

DHADKANE MERI SUN

ये छेड़छाड़ , ये आवारगी , और ये दास्ताँ-ए-मोहब्बत उस रोज़ उस रात की तन्हाई की है दोस्तों,जब हम भी मूड में थे और वो भी........ ......मगर... with full dedication. 

info_outline
Those Moments show art Those Moments

DHADKANE MERI SUN

Embark on a Soulful Journey with 'Those Moments'! Listen now on Spotify, Amazon, and JioSaavn! Capturing the essence of unforgettable moments, this episode on #Dhadkane MeriSun podcast by Dr. Rajnish Kaushik is a must-listen! Join us for a heartfelt experience filled with soulful music, emotions, and cherished memories.

info_outline
Bewafa Teri Deewangi show art Bewafa Teri Deewangi

DHADKANE MERI SUN

उल्फत की बातेँ जन्मों के वादे वो रस्में वो कसमें और जन्नत सी रातें कितने जवां और कितने थे पक्के पत्थर की मानिंद तेरे इरादे फिर भी तूने जुल्म ये ढाया क्यूँ बेवफा मुझे इतना रुलाया मोहब्बत थी या फिर आवारगी थी कैसी वो तेरी दीवानगी थी...

info_outline
I just want to touch you show art I just want to touch you

DHADKANE MERI SUN

तुम जो धड़कती थी सीने में जिंदगी बनकर.....मेरे ज़िस्म मेरे शरीर में मेरी रूह बनकर.....मेरे दिल के हर हिस्से में दौड़ते रक्त प्रवाह की मानिंद..... कहीं तुम्हें कोई दर्द ना हो  मेरी वज़ह से तुम्हें कोई आघात ना हो...मेरे प्रेम की निरंतरता...

info_outline
 
More Episodes

उसने अपने खत में लिखा.... ये कैसा प्यार है तेरा... बिस्तर में सलवटें ही नहीं पड़ती, सलवटें पड़े भी तो कैसे... क्योंकि...तू वहाँ ... मैं यहाँ.... ये कैसा खुदा है मेरा .... धरती प्यास से तड़प रही है मेघ हैं कि बरसने का नाम ही नहीं लेते मेघ बरसे भी तो कैसे.... क्यों कि ... तू वहाँ... मैं यहाँ .... वो अक्सर अपने खत में लिखा करती थी........... रातां बिन यारा तेरे नहीं कटती

In this episode of Dhadkane Meri Sun, we delve into the poignant letters of a lover separated by distance. She writes with a heart full of longing:

"What kind of love is this? The bed never creases, and how could it? Because you’re there... and I’m here.

What kind of fate is this of mine? The earth thirsts in agony while the clouds refuse to rain. And even if they do, how could they? Because you’re there... and I’m here.

She often wrote in her letters...

The nights don’t pass without you, my love."

Join us as we explore the depths of her emotions and the pain of separation, wrapped in poetic expression and heartfelt words. Don't miss this touching episode of Dhadkane Meri Sun.